Топ-100

नाथाजी और यामाजी

नाथाजी पटेल और यामाजी पटले भारत मे ब्रिटिश राज के दौरान चन्दप गांव जिसे चांडप भी बोला/लिखा जाता है के कोली पटेल थे। यह गांव उनके अधीन था। नाथाजी और यामाजी ने १८५७ के भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन मे अंग्रेजों के खिलाफ हथियार उठाए थे।
नाथाजी और यामाजी हर वर्ष बड़ौदा रियासत को हर वर्ष कुछ कर अदा करते थे यानीकी चन्दप जागीर के रुप में बड़ौदा रियासत के अधीन थी।

1. क्रांतिकारी गतिविधियों
१८५७ की क्रांती के दौरान चन्दप गांव के कोलीयों मे भी विद्रोह की महक उठ रही थी इसी को मद्देनजर रखते हुए अंग्रेजों की मित्र रियासत बड़ौदा के महाराजा को इस बात की खबर मिली तो महाराजा गायकवाड़ ने चन्दप मे विद्रोह ना हो इसके लिए घुड़सवार तैनात कर दिए जिसका विरोध नाथाजी और यामाजी ने किया।
चन्दप गाव के कोलीयों ने घुड़सवारों को मार डाला और थाने पर भी हमला कर दिया। जिसके बाद इडर रियासत, बड़ोदा रियासत और ब्रिटिश सरकार ने सेना भेजी लेकिन विद्रोह किये हुए कोली पास की पहाड़ियों में चले गए और विद्रोह जारी रखा। १४ अक्टूबर १८५७ को अंग्रेजों ने चारों तरफ घेराबंदी कर दी और सभी संचार माध्यम काट दिए।
इस विद्रोह मे सभी छोटे-छोटे और महीलाओं ने भी हथियार उठाए थे
अक्टूबर मे बड़ौदा रियासत, इडर रियासत और ब्रिटिश सेना ने मिलकर विद्रोह को दफ़न करने के लिए जला कर राख कर दिया जिसका असर अनेकों जगहों पर देखने को मिला। जैसे ही चंडप गांव को उड़ा दिया गया उसके बाद गुजरात के विजापुर, वड़नगर और खेरालु मे विद्रोह भड़क उठा।

ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में घुड़सवारी

1900 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में घुड़सवारी ग्रीष्मकालीन ओलंपिक की शुरुआत की, पेरिस, फ्रांस में। यह 1912 तक गायब हो गया था, लेकिन बाद में हर ग्रीष्मकालीन ओलंपिक ख...

बरेली का इतिहास

बरेली भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित एक नगर है। यह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग २४ के बीच...

कुणाल मून

कुणाल चंद्रमा एक भारतीय समकालीन कलाकार हैं जो अपनी कला से भारतीय शास्त्रीय नृत्य प्रदर्शन करने के लिए जाना जाता है, की वजह से उनके अद्वितीय शैली का मुख्य विष...

टायर रीसाइक्लिंग व्यापार

टायर रीसाइक्लिंग व्यापार का पूरा विवरण बता सकते हैं, क्या यह है कि यह कैसे शुरू करने के लिए कैसे पूंजी लग जाएगा, आदि? टायर रिसाइक्लिंग व्यवसाय - आप वाहनों के...

दुलावत वंश

सूरजवंश रघुकूल तिलक अवधनाथ रघुबीर ताहि कुंवर लव खाँप मे अव्वल राण हम्मीर लाखों हम्मीर रो पोतरो ता कुँवर दुल्हा राणी लखमादे जनिया सहउदर चूण्डा संवत् चैदह गुनच...

किन्नर साम्राज्य

महाभारत-काल में किन्नर साम्राज्य किन्नर नामक जनजाति के क्षेत्र को संदर्भित करता है, जो विदेशी जनजातियों में से एक थे। वे हिमालय पर्वत के निवासी थे। गंगा के म...

जीवाभाई ठाकोर

जीवाभाई ठाकोर गुजरात में महीसागर जिले के लुणावाडा मे खानपुर के कोली ठाकोर थे। जिसने १८५७ की क्रांती के समय अंग्रेजों के खिलाफ हथियार उठाए थे एवं महीसागर क्षे...

राजा मांडलिक

राजा मांडलिक इडर के शासक थे। राजा मांडलिक ने मेवाड़ अथवा गुहिल वंश के संस्थापक राजा गुहादित्य को अपने संरक्षण में रखा। जब शिलादित्य के वल्लभी पर मलेच्छो ने ह...